Hindi Stories

बरगद की कहानी Motivational Stories in Hindi

दोस्तों समय बहुत ही बलवान होता है वह एक रंक को राजा और रंक और रंक बनाते देर नहीं लगाता बुरे समय में जो लोग समय की गति को नहीं पहचान पाते ऐसे लोगों का पैसा मान-सम्मान और प्रतिष्ठा खत्म हो जाती हैआप इन सब से कैसे बच सकते हैं यह समझाने के लिए मैं आपको एक Motivational stories सुनाता हूं

नदी के किनारे एक बहुत ही विशाल बरगद का पेड़ था जिसकी जड़ें जमीन में दूर तक फैली हुई थी उसे अपनी गहरी और मजबूत जड़ों पर बहुत ही घमंड था वह अक्सर कहता रहता था कि मेरा कोई क्या नुकसान कर सकता है 1 दिन नदी में भयंकर बाढ़ आ गई बाढ़ को देखकर

विशाल बरगद का वृक्ष मुस्कुराने लगा और मन ही मन बोला जब तक मेरे पास मेरी गहरी और मजबूत जड़े हैं तब तक यह बाढ़ मेरा कुछ भी नहीं कर सकती नदी में बाढ़ ने भयंकर रूप ले लिया इसी बीच लहरों ने जड़ों के नीचे से मिट्टी काटने शुरू कर दी हर लहर मिट्टी काटती और अपने साथ बहा ले जाती

यह क्रिया इसी प्रकार चलती रही और कुछ समय बाद वह वृक्ष उखड़ गया उसकी गहरी और मजबूत जड़ों ने उसका साथ छोड़ दिया वह असहाय होकर नदी के किनारे पड़ा हुआ था उस विशाल बरगद के पेड़ के पास एक बांस का पेड़ भी था उस बांस के पेड़ ने भी उस बाढ़ का सामना किया

जब जब बाढ़ का प्रभाव तेज होता बांस का पेड़ झुक जाता और मिट्टी की सतह पर लेट जाता बाढ़ का पानी उसके ऊपर से गुजर जाता बाढ़ खत्म होने के बाद वह फिर से खड़ा हो गया

दोस्तों इस motivational stories in hindi से मैं आपको यह समझाना चाहता हूं कि जो लोग अहंकारी घमंडी और जो समय की गति को नहीं पहचान पाते ऐसे लोग बरगद के पेड़ की तरह समय के प्रवाह से उखड़ जाते हैं वहीं दूसरी ओर जो लोग विनम्र है झुक कर चलते हैं अनावश्यक टकराते नहीं बुरे समय में सामने वाले से तालमेल बैठा लेते हैं ऐसे लोग अपनी सज्जनता के कारण पूरी समय में बस जाते हैं अब आप समझ गए होंगे कि बुरे समय में कौन बचता है और कौन नहीं

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button