Love Shayari

Love Shayari

मेरी यादो मे तुम हो, या मुझ मे ही तुम हो…
मेरे खयालो मे तुम हो, या मेरा खयाल ही तुम हो…
दिल मेरा धडक के पूछे, बार बार एक ही बात…
मेरी जान मे तुम हो, या मेरी जान ही तुम हो…

तेरे सीने से लग कर तेरी आरज़ू बन जाऊँ,
तेरी सांसों से मिलकर तेरी खुशबू बन जाऊँ,
फासले न रहें कोई हम दोनों के दरम्यान,
मैं, मैं न रहूँ… बस तू ही तू बन जाऊँ।

एक पल की ये बात नहीं,
दो पल का ये साथ नहीं,
कहने को तो जिन्दगी जन्नत से प्यारी है,
पर वो साथ ही क्या जिसमे तेरा हाथ नहीं.

उन्हें देखा फिर से दर्द उठा.
पर उन्हें देखे बगैर रहा भी नहीं ज़ाता.
ऐसा क्यूं करती है तू ऐ ज़िदंगी.
क्या तुम्हे हमसे ख़ेले बगैर रहा नहीं जाता.!

हर खामोशी को इकरार नही कहते,
हर नाकामी को हार नही कहते,
क्या हुआ अगर हम आपके नही हो सकते,
सिर्फ पा लेने को प्यार नही कहते !!

मेरा दिल धडकता है सिर्फ तुम्हारे लिए,
मेरा दिल तडफता है सिर्फ तुम्हारे लिए,
ना जाने मै क्यो डरता हूँ आपसे,
अपने प्यार का इज़हार करने के लिए !!

मुस्कान तेरे होठों से कही जाए न,
आंसू तेरी पलकों पे कही आए न,
पूरा हो तेरा हर खवाब,
और जो पूरा न हो वो खवाब कभी आए न !!

ढलती शाम का खुला एहसास है ,
मेरे दिल में तेरी जगह कुछ खास है ,
तू नहीं है यहाँ मालूम है मुझे …
पर दिल ये कहता है तू यहीं मेरे पास है

हर शाम से तेरा इजहार किया करते है,
हर ख्वाब मे तेरा दिदार किया करते है,
दिवाने ही तो है हम तेरे,
जो हर वक्त तेरे मिलने का इंतजार किया करते है…

समेट लो इन नाजुक पलों को,
न जाने ये लम्हे कल हो ना हो,
चाहे हो भी ये लम्हे,
क्या मालूम शामिल उन पलों में हम हो ना हो…

Previous page 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50Next page

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button