Miss You Shayari

Miss You Shayari

मुझे नींद की इजाज़त भी
उनकी यादों से लेनी पड़ती है,
जो खुद आराम से सोये हैं
मुझे करबटों में छोड़ कर।

मेरी आंखों के आंसू कह रहे मुझसे,
अब दर्द इतना है कि सहा नहीं जाता,
न रोक पलको से खुल कर छलकने दे,
अब यूं इन आंखों में रहा नहीं जाता।

यूँ पलके बिछा कर तेरा इंतज़ार करते है,
यह वो गुनाह है जो हम बार बार करते है,
जलकर हसरत की राह पर चिराग,
हम सुबह और शाम तेरे मिलने का इंतज़ार करते है

जाने उस शख्स को कैसे ये हुनर आता है,
रात होती है तो आँखों में उतर आता है ।
मैं उस के खयालो से बच के कहाँ जाऊं,
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आता l

खुल जाता है तेरी यादों का बाजार सरेआम,
फिर मेरी रात इसी रौनक में गुजर जाती है l

तन्हाई मेरे दिल में समाती चली गयी,
किस्मत भी अपना खेल दिखाती चली गयी,
महकती फ़िज़ा की खुशबू में जो देखा प्यार को,
बस याद उनकी आई और रुलाती चली गयी।

अगर खता हो गयी तो फिर सज़ा सुना दो,
दिल में इतना दर्द क्यूँ है वजह बता दो,
देर हो गयी आपको याद करने में जरूर,
लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल मिटा दो।

तकिये के लिहाफ में छुपाकर रखी हैं तेरी यादें,
जब भी तेरी याद आती है मुँह छुपा लेता हूँ।

अकेलेपन का इलाज़ होती हैं यादें,
बहुत ही हसीन सी होती हैं यादें,
यूँ तो बोलने को कुछ भी नहीं हैं,
पर मानने को अपना ही साया हैं यादें।

1 2 3 4 5Next page

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button